इटावा में जनता के लिए खुला एशिया का सबसे बड़ा सफारी पार्क

70
SHARE

इटावा में सफारी पार्क का आम जनता के लिए उद्घाटन आखिकार कर दिया गया है। यूपी के वन मंत्री दारा सिंह चौहान ने रविवार 24 नवंबर को इटावा सफारी पार्क का उद्घाटन किया। अब 25 नवंबर से यहां आम लोग टिकट लेकर इटावा सफारी पार्क की सैर कर सकेंगे। पार्क के उद्घाटन के मौके पर वन मंत्री दारा सिंह चौहान के साथ स्थानीय सांसद प्रो. रामशंकर कठेरिया, सदर विधायक सरिता भदौरिया, भरथना विधायक सावित्री कठेरिया, बीजेपी नेता मनीष यादव पतरे, बीजेपी आई टी सेल के संयोजक अमित तिवारी मानू, समेत बीजेपी के कई स्थानीय नेता और कार्यकर्ता मौजूद रहे।

खास बात यह रही कि सफारी पार्क के उद्घाटन के मौके पर प्रदेश सरकार के वन मंत्री दारा सिंह चौहान और सांसद रामशंकर कठेरिया ने सफारी पार्क बनाने की पहल करने के लिये मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव को शानदार सफारी पार्क का निर्माण करने के लिये बधाई दी। उन्होंने कहा कि अच्छे कामो की सराहना होनी चाहिये। वन मंत्री ने कहा कि इटावा पहले खूंखार डांकुओं के लिए जाना जाता था लेकिन अब पूरी दुनिया मे सफारी पार्क से यहां की पहचान बनेगी।

इटावा सफारी पार्क में फिलहाल तीन सफारी को ही खोला जा रहा है। इनमें हिरन सफारी, एंटीलोप सफारी और भालू सफारी शामिल हैं। लॉयन सफारी अभी नहीं खुलने से लोगों में मायूसी है हालांकि अधिकारियों के साथ ही सांसद रामशंकर कठेरिया और सदर विधायक सरिता भदौरिया ने भी भरोसा दिलाया कि अगले साल मार्च तक यहां लॉयन सफारी को भी आम लोगों के लिए खोल दिया जाएगा। दरअसल लॉयन सफारी खोले जाने के लिए कम से कम दस शेर होने की अनिवार्यता है जो अभी पूरी नहीं हो पा रही है।

सफारी पार्क में लोगों की सुविधा के लिए फैसिलिटीज सेंटर व फोर डी थियेटर को भी खोला जा रहा है जिसमें वन्य जीवों पर फिल्म दिखाई जाएगी। फोर डी में फिल्म देखना अपने आप में एक यादगार अनुभव होगा। इटावा सफारी पार्क सिर्फ वन्य जीवों के लिए ही नहीं बल्कि यहां पर आप सैकड़ों प्रजातियों के अन्य पशु-पक्षियों को देख पाएंगे जिनका यह प्राकृतिक आवास है। इनमें तमाम तरह के खरगोश, अजगर, सांप और रंगबिरंगे पंछी मोर, नीलकंठ, बुलबुल, कोयल, कबूतर, मुनिया, गौरैया, तोता, गिद्ध, चील, बाज शामिल हैं।

इटावा सफारी पार्क देखने के लिए एक वयस्क का टिकट नॉन एसी बस से 200 रुपये और 6 से 12 साल तक के बच्चे के लिए 50 रुपये तय किया गया है। एसी बस से एक वयस्क के लिए टिकट 300 रुपये और 6 से 12 वर्ष तक के बच्चे के लिए 100 रुपये का होगा। इसके अतिरिक्त फोर डी थियेटर में फिल्म देखने के लिए 150 रूपए का टिकट लगेगा और वाहन पार्किँग का चार्ज अलग से लगेगा। सफारी व फोर डी थियेटर एक साथ देखने के लिए काम्बो पैक भी है जिसमें थोड़ी रियायत मिलेगी।

इटावा सफारी पार्क का सपना साल 2003 मे तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने देखा था और इस दिशा में काम शुरू कराया था। साल 2007 में सरकार बदलने के साथ ही इस प्रोजेक्ट पर काम रुक गया था। साल 2012 में जब अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने तो अपने पिता मुलायम सिंह यादव के सपने को साकार करना शुरू किया।

करीब 324 करोड़ की लागत से इटावा सफारी पार्क का निर्माण मई 2012 में शुरू हुआ और यह उस वक्त के यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का ड्रीम प्रोजेक्ट था। इटावा का यह सफारी पार्क उत्तर प्रदेश के छोटे से शहर इटावा में है लेकिन यह एशिया का सबसे बड़ा वाइल्ड लाइफ सफारी पार्क है जो करीब 3 हजार एकड़ या 8 किलोमीटर के दायरे में फैला है। पहले इसका नाम लायन सफारी इटावा रखा गया था लेकिन अब इसका नाम बदलकर इटावा सफारी पार्क रख दिया गया है। इटावा सफारी पार्क के शुरू हो जाने से इटावा पर्यटक मानचित्र पर आ जाएगा। इससे इटावा की नई छवि बनने और रोजगार के ढेरों मौके पैदा होने की संभावना है।