औरैया हादसा: सीएम योगी ने किया मुआवजे का ऐलान, दो एसएचओ निलंबित, अखिलेश-मायावती-राजभर ने जताया दुख

105
SHARE

उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में प्रवासी मजदूरों से भरे ट्रॉला में दूसरे ट्रक ने टक्कर मार दी जिससे 24 मजदूरों की मौत हो गई। घटना सुबह 3 से 4 बजे के बीच की बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि ट्रॉला में 81 मजदूर सवार थे। इस हादसे में 24 मजदूरों की मौत हो गई, जबकि 35 लोग गंभीर रूप से घायल है। ज्यादातर मजदूर बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल के हैं और राजस्थान से आ रहे थे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना पर दुख जताते हुए मृतकों के परिजनों को 2 लाख रुपए मुआवजा देने की घोषणा की, वहीं हादसे में गंभीर रूप से घायल हुए लोगों को 50 हजार रुपए देने का ऐलान किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना के लिए जिम्मेदार थानाध्यक्षों को तत्काल सस्पेंड करने और सीओ को चेतावनी देने का निर्देश जारी किया है।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस घटना पर दुख व्यक्त किया। उन्होंने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए लिखा, ‘यूपी के औरैया में सड़क हादसे में 24 से भी अधिक गरीब प्रवासी मजदूरों की मौत पर अवर्णनीय दुख. घायलों के लिए दुआएं. सब कुछ जानकर, सब कुछ देखकर भी, मौन धारण करनेवाले हृदयहीन लोग और उनके समर्थक देखें कब तक इस उपेक्षा को उचित ठहराते हैं. ऐसे हादसे मृत्यु नहीं हत्या हैं.’

बसपा अध्यक्ष मायावती ने इस हादसे पर दुख जताते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने कल कहा था कि जो मजदूर यूपी आ रहे हैं या यहां से गुजर रहे हैं उनके लिए भोजन-पानी और जरूरी इंतजाम किए जाएं लेकिन अधिकारियों ने उनकी बातों को गंभीरता से नहीं लिया और औरैया का हादसा हो गया। मायावती ने कहा कि जिम्मेदार अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

पूर्व कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने औरैया हादसे पर दुख जताया है. राजभर ने कहा है कि यह दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण है कि आए दिन श्रमिक और कामगार हादसों का शिकार हो रहे हैं। राजभर ने कहा कि भारतीय समाज पार्टी मांग करती है सरकार पीड़ित परिवारों को 25-25 लाख आर्थिक सहायता तत्काल दे!

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के नेता शिवपाल सिंह यादव ने इस हादसे को दुर्भाग्यपूर्ण और हृदयविदारक बताया है। उन्होंने लिखा कि ”यूपी के औरैया में हुए भीषण सड़क हादसे में 24 प्रवासी मजदूरों की मृत्यु दुखद, दुर्भाग्यपूर्ण व हृदय विदारक है. श्रद्धांजलि! आज इन गरीब प्रवासियों के हिस्से में लूटपाट, पुलिस की पिटाई, फटकार, अपमान, भूख व दुर्घटनाएं हैं और मांग सिर्फ यह है कि घर पहुंचा दो! इतनी असंवेदनशीलता क्यों?”