घरेलू उड़ाने शुरू, जानिए आने पर किसे रहना होगा क्वारंटाइन और किसे नहीं, साथ में यूपी की अन्य बड़ी खबरें

140
SHARE

देश में आज से घरेलू विमान सेवाएं शुरू हो गई हैं। इसके लिए यूपी सरकार ने गाइड लाइन्स जारी कर दी हैं। इनके मुताबिक आने वाले सभी यात्रियों को एयरपोर्ट छोड़ने से पहले वेबसाइट Reg.upcovid.in पर अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके बाद ही वह एय़रपोर्ट से बाहर जा सकेंगे। उत्तर प्रदेश में रहने वाले यात्रियों को 14 दिन के होमक्वारंटाइन में रहना होगा और इस बारे में तय प्रोटोकॉल का पालन करना होगा।

जो यात्री किसी कार्यवश एक सप्ताह से कम अवधि के लिए उत्तर प्रदेश में आएंगे उन्हें क्वारंटाइन नहीं किया जाएगा, लेकिन उन्हें अपनी वापसी यात्रा का विवरण देना होगा। हालांकि ऐसे यात्रियों को हॉटस्पॉट के कंटेंनमेंट जोन में जाने की इजाजत नहीं होगी।

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के सक्रिय मामलों की संख्या 2493 हो गई है, जबकि 3433 कोरोना संक्रमित लोग स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके हैं। राज्य के प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने ह जानकारी देते हुए बताया कि राज्य में अब तक कोरोना संक्रमण से 155 लोगों की मौत हो चुकी है।

सीएम योगी ने अपने लखनऊ स्थित सरकारी पर कोविड-19 के संबंध में गठित समितियों के अध्यक्षों के साथ बैठक की एवं कोरोना वायरस के संक्रमण को नियंत्रित करने के साथ ही प्रवासी मजदूरों/कामगारों को रोजगार से जोड़ने हेतु योजनाबद्ध तरीके के कार्य करने के दिशा निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य सरकार के प्रयासों से अब तक 23 लाख कामगारों/श्रमिकों को प्रदेश वापस लाया गया है। राज्य सरकार इन सभी की सुरक्षित व सम्मानजनक वापसी के लिए कटिबद्ध है। उन्होंने कहा कि कामगारों/श्रमिकों को होम क्वारंटीन के दौरान ₹1,000 का भरण-पोषण भत्ता भी उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने कहा कि कामगारों/श्रमिकों को रोजगार मुहैया कराकर इन्हें सामाजिक सुरक्षा की गारन्टी दी जाएगी। कृषि विभाग व दुग्ध समितियों में इन्हें बड़े पैमाने पर रोजगार उपलब्ध कराया जा सकता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेशवासियों को ईद-उल-फित्र की शुभकामनाएं दी हैं और कहा कि ईद-उल-फित्र का त्यौहार खुशी और मेल-मिलाप का सन्देश लेकर आता है। खुशियों का यह त्यौहार सामाजिक एकता को मजबूत करने के साथ ही आपसी भाईचारे की भावना को बढ़ाता है। इस पर्व पर सभी को सद्भाव तथा सामाजिक सौहार्द को और सुदृढ़ करने का संकल्प लेना चाहिए। उन्होंने लोगों से लॉकडाउन तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पूर्ण पालन करते हुए घर पर ही नमाज पढ़ने और ईद मनाने की अपील की है।


कोरोना मरीज़ों और क्वारन्टाईन सेंटर में एहतियात के साथ मोबाइल फोन रखे जा सकेंगे। उत्तर प्रदेश सरकार ने इस बारे में पुराना फैसला वापस ले लिया है। मरीज़ों को और क्वारन्टाईन सेंटर में रहने वालों को अब एहतियात के साथ अपना मोबाइल फोन और चार्जर रखने की अनुमति रहेगी।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सरकार के फैसले पर सवाल उठाया था और कहा था कि अगर मोबाइल से संक्रमण फैलता है तो आइसोलेशन वार्ड के साथ पूरे देश में इसे बैन कर देना चाहिए। यही तो अकेले में मानसिक सहारा बनता है. वस्तुतः अस्पतालों की दुर्व्यवस्था व दुर्दशा का सच जनता तक न पहुँचे, इसीलिए ये पाबंदी है। ज़रूरत मोबाइल की पाबंदी की नहीं बल्कि सैनेटाइज़ करने की है।



समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रदेशवासियों को ईद उल फित्र की बधाई दी है और उनके सुख-समृद्धि की कामना की है। उन्होंने कहा कि ईद उल फितर का त्यौहार मेल-मिलाप, खुशियां बांटने और परस्पर सद्भाव का प्रतीक है।