जहरीली शराब कांड- मुख्यमंत्री योगी ने जताई साजिश की आशंका

30
SHARE

जहरीली शराब से उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में मरने वालों की संख्या 116 कर पहुंच गई है, इसके अलावा यूपी में 16 लोगों और उत्तराखंड में 12 लोगों की हालत खराब बनी हुई है। मौत के इस तांडव के लिए सपा-बसपा गठबंधन सत्ताधारी बीजेपी को दोषी बता रहा है वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कहना है कि जहरीली शराब कांड में उन्हें साजिश की आशंका नजर आ रही है। सरकार ने शराब कांड की जांच के लिए एसआईटी टीम गठित की है।
बता दें कि जहरीली शराब से यूपी के सहारनपुर में मौत का आंकड़ा 70 पार हो गया है वहीं उत्तराखंड में 36 लोगों की मौत अब तक हो चुकी है। उधर पूर्वी यूपी के कुशीनगर में भी जहरीली शराब की वजह से 10 लोगों की मौत हो चुकी है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शराब कांड के दोषियों के किसी राजनीतिक पार्टी से जुड़े होने पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा है कि पहले भी एसपी नेताओं द्वारा इस तरह की घटनाएं सामने आ चुकी हैं। आजमगढ़, हरदोई, कानपुर और बाराबंकी में हुए जहरीली शराब कांड एसपी नेता शामिल पाए गए थे। इसलिए इस बार भी किसी साजिश से इनकार नहीं किया जा सकता है।
खबरों के मुताबिक जहरीली शराब को सहारनपुर के पुंडेन गांव से खरीद रकर लाया गया था। पुलिस ने जहरीली शराब बिक्री के आरोपी बाप-बेटे को गिरफ्तार कर लिया है, हालांकि अभी भी मुख्य सप्लायर फरार है। पुलिस ने सहारनपुर में इस मामले में 3 महिलाओं समेत 30 लोगों को अब तक गिरफ्तार किया है।
जहरीली शराब मामले के लिए समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर आरोप लगाया है वहीं बसपा ने इसकी सीबीआई जांच की मांग की है। कांग्रेस की नई महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बीजेपी सरकार से जहरीली शराब कांड के जिम्मेदारों को कड़ी सजा देने और मृतकों के परिवारों को मुआवजा सुनिश्चित करने को कहा है। शराब कांड के विरोध में रविवार को सहारनपुर विरोध-प्रदर्शन भी हुआ और गगलहेडी इलाके में सहारनपुर-मुजफ्फरनगर हाइवे जाम को घंटों जाम रखा।

यह भी जानें


शराब कांड पर यूपी के आबकारी मंत्री जय प्रताप सिंह ने बताया कि सहारनपुर के कुछ लोग एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए उत्तंराखंड गए थे, जहां उन्होंफने जहरीली शराब का सेवन किया। जब वे लौटे तो मौत का आंकड़ा बढ़ गया।
शराब से हुई इतनी मौतों के बाद पूरे राज्य में ही आबकारी विभाग की नींद खुली है और कई जिलों में छापेमारी कर 10 हजार लीटर से ज्यादा की अवैध और कच्ची शराब बरामद की गई है। इटावा, एटा, बांदा, गोरखपुर, हमीरपुर, चित्रकूट, बस्ती, देवबंद, महाराजगंज, मथुरा, बुलंदशहर, गाजियाबाद व मेरठ में कई जगहों पर छापेमारी की है।