पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली का निधन

25
SHARE

पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली का निधन हो गया है। उन्होंने दिल्ली स्थित एम्स अस्पताल में दोपहर 12.07 बजे अंतिम सांस ली है। अरुण जेटली 9 अगस्त से ही एम्स में भर्ती थे। सांस लेने में तकलीफ के बाद उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था। वह 66 वर्ष के थे। उनके फेफड़ों में पानी जमा हो रहा था, जिसकी वजह से उन्हें सांस लेने में परेशानी आ रही था। डॉक्टरों ने उन्हें वेंटिलेटर पर रखा हुआ था। एम्स ने बयान जारी कर कहा है कि बेहद दुख के साथ सूचित किया जा रहा है कि 24 अगस्त को 12 बजकर 7 मिनट पर माननीय सांसद अरुण जेटली अब हमारे बीच में नहीं रहे।

अरुण जेटली को सॉफ्ट टिश्यू सरकोमा था, जो एक तरह का कैंसर होता है। वह पहले से डायबिटीज के मरीज थे। उनका किडनी ट्रांसप्लांट भी हो चुका था। सॉफ्ट टिशू कैंसर की भी बीमारी का पता चलने के बाद वह इलाज के लिए अमेरिका भी गए थे। मोटापे की समस्या से छुटकारा पाने के लिए उन्होंने बैरिएट्रिक सर्जरी भी कराई हुई थी। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में वित्त मंत्रालय संभालने वाले अरुण जेटली स्वास्थ्य कारणों से ही मोदी सरकार 2 में शामिल नहीं हुए थे।

जेटली का निधन ऐसे वक्त हुआ है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश दौरे पर अभी संयुक्त अरब अमीरात में हैं। जेटली के निधन की खबर के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने अपना हैदराबाद दौरा खत्म कर दिया है। वह हैदराबाद से दिल्ली पहुंच रहे हैं। आज ही अरुण जेटली से मिलने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन एम्स पहुंचे थे। जेटली के निधन पर भाजपा के सभी वरिष्ठ नेताओं समेत विपक्ष के नेताओं ने भी शोक जताया है।

अरुण जेटली का जन्म 28 दिसंबर 1952 को हुआ था। अरुण जेटली ने दिल्ली विश्वविद्यालय से छात्र नेता के रूप में राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी। वह सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील भी थे। वह अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में भी केंद्रीय मंत्री रहे थे। जेटली की गिनती देश के बेहतरीन वकीलों के तौर पर होती रही, वह एक अच्छे वक्ता भी थे जो अपनी बात तर्कों के साथ काफी प्रभावी ढंग से रखते थे।