सपा-सुभासपा में हो सकता है गठबंधन, हमीरपुर के नतीजों ने बदले सियासी समीकरण

112
SHARE

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में भाजपा की जीत के बाद नए सियासी समीकरण बनते दिखाई दे रहे हैं। इस चुनाव नतीजे से भाजपा एक बार फिर से नंबर वन पार्टी साबित हुई है वहीं दूसरे नंबर पर रही समाजवादी पार्टी अब अपने साथ आरएलडी के साथ ही सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को साथ लेकर चल सकती है। खबरें हैं कि अखिलेश यादव इन दोनों ही पार्टियों के लिए एक-एक सीटें छोड़ सकते हैं।


सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने गुरुवार को समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की थी। दोनों के बीच विधानसभा उपचुनाव मिल कर लड़ने पर चर्चा हुई। गठबंधन के सिलसिले में राजभर की सपा अध्यक्ष से यह तीसरी मुलाकात बताई जा रही है। सुभासपा वैसे तो अपने लिए तीन सीटें जलालपुर, घोसी व बलहा चाहती है लेकिन सूत्रों के हवाले से खबर है कि सपा एक सीट ही देने के मूड में है और यह सीट घोसी की हो सकती है। इसी तरह से आरएलडी को पश्चिमी यूपी की एक सीट दी जा सकती है। बाकी 9 सीटों पर सपा अकेले लड़ सकती है।


दरअसल यूपी में हमीरपुर की विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में समाजवादी पार्टी दूसरे नंबर पर आई है जबकि बहुजन समाज पार्टी तीसरे नंबर पर रही है। बड़ी बात यह भी कि सपा और बसपा के बीच वोटों का अंतर काफी है। बसपा को मिले वोट सपा के लगभग आधे है, इसीलिए समाजवादी पार्टी इस सीट पर हार कर भी जीता हुआ महसूस कर रही है। जो थोड़ी कमी रह गई है उसे वह सुभासपा जैसी पार्टी को साथ जोड़ कर पूरा करना चाहेगी। ऐसे में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी अध्यक्ष अगर एक सीट पर राजी हो जाते हैं तो इन दोनों पार्टियों में बात बन सकती है। आरएलडी पहले से ही सपा के साथ है।


इस बीच सपा ने लखनऊ कैंट से मेजर आशीष चतुर्वेदी और गोविंदनगर सीट पर उपचुनाव के लिए सम्राट विकास को उम्मीदवार बनाया है। खबरें हैं कि पार्टी मऊ जिले की घोसी सीट सुभासपा के लिए और अलीगढ़ की इगलास सीट आरएलडी के लिए छोड़ी सकती है। बताते चलें कि प्रदेश में विधानसभा की 11 सीटों पर 21 अक्टूबर को वोट डाले जाएंगे। 2017 के चुनाव में इनमें से नौ सीटें भाजपा और एक-एक सीट सपा-बसपा के पास थीं।