समाजवादी पार्टी एक्शन में! फिरोजाबाद की हार का बदला शिवपाल से जसवंत नगर में लेने की तैयारी

182
SHARE

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव की विधानसभा सदस्यता, समाजवादी पार्टी की तरफ से कार्रवाई की मांग के बाद खतरे में है। यूपी विधानसभा में समाजवादी पार्टी के नेता रामगोविंद चौधरी ने शिवपाल सिंह यादव की विधानसभा सदस्यता दलबदल कानून के तहत खत्म करने के लिए विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिखा है। इसके बाद कहा जा रहा है कि इटावा जिले की जसवंतनगर विधानसभा में उपचुनाव के जरिए फिरोजाबाद संसदीय सीट पर सपा नेता अक्षय यादव की हार का बदला समाजवादी पार्टी अब लेने की तैयारी में है।

समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ शिवपाल सिंह यादव का विवाद 2017 में विधानसभा चुनावों के दौरान ही शुरू हो गया था। बाद में शिवपाल सिंह यादव ने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के नाम से अलग पार्टी बना ली। लोकसभा चुनावों के दौरान शिवपाल ने जानकारी दी कि वह समाजवादी पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं। उन्होंने लोकसभा चुनावों में सपा के खिलाफ उम्मीदवार भी उतारे जिनमें सबसे महत्वपूर्ण चुनाव फिरोजाबाद का था जहां से वह सपा के महासचिव रामगोपाल यादव के बेटे अक्षय यादव के खिलाफ खुद चुनाव लड़े थे।

शिवपाल को इस चुनाव में 91,869 वोट मिले। अक्षय यादव को 4,67,038 वोट मिले और चुनाव जीतने वाले भाजपा के चंद्रसेन जादौन को 4,95,819 वोट मिले। समाजवादी पार्टी ने अक्षय यादव की हार का जिम्मेदार शिवपाल सिंह यादव को ही माना क्योंकि भाजपा उम्मीदवार से अक्षय यादव लगभग 29 हजार वोटों के अंतर से ही हारे। शिवपाल सिंह यादव और उनके समर्थको ने रिकार्ड मतो से जीत का दावा किया था लेकिन जब नतीजे समाने आये तो परिणाम कुछ और ही थे, शिवपाल वास्तव में अक्षय की हार का कारण बने।

जसवंत नगर विधानसभा सीट पर 1996 से समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के उत्तराधिकारी के तौर पर शिवपाल सिंह यादव की ताजपोशी है। पिछला चुनाव शिवपाल समाजवादी पार्टी के टिकट पर ही लड़े थे। अब अगर समाजवादी पार्टी से अलग होकर वह लड़ते हैं तो निश्चित ही उनके लिए मुसीबत खड़ी होगी। इस सीट पर शिवपाल सिंह यादव के प्रतिद्वंदी भारतीय जनता पार्टी के नेता मनीष यादव पतरे कहते हैं कि जब शिवपाल सिंह यादव ने नई पार्टी बनाई तो उन्हें समाजवादी पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा पहले ही दे देना चाहिए था और शिवपाल सिंह यादव अब चुनाव मैदान में उतरेंगे तो उनको उनकी हैसियत का पता चल जाएगा। मनीष यादव का कहना है कि वह शिवपाल सिंह यादव के खिलाफ चुनाव मैदान में जरूर उतरेंगे भले ही नतीजा कुछ भी रहे।

शिवपाल की पार्टी प्रसपा के नेताओं का कहना है कि इस मामले पर फैसला विधानसभा अध्यक्ष को लेना है, उनके फैसले के बाद ही आगे की लड़ाई लड़ी जाएगी। धर समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष गोपाल यादव ने कहा कि जसवंतनगर विधानसभा क्षेत्र के वासी समाजवादी पार्टी के अलावा किसी और को पसंद नही करेंगे। इसलिए समाजवादी पार्टी अपनी परंपरागत सीट पर मजबूत उम्मीदवार को उतारेगी ताकि इस सीट पर समाजवादी झण्डा फहराता रहे।