इंदौर में भाजपा के ‘बल्लेबाज’ विधायक आकाश विजयवर्गीय को मिली जमानत

32
SHARE

इंदौर में नगर निगम के एक अधकारी को क्रिकेट बैट से पीटने और बिजली कटौती को लेकर किए गए प्रदर्शन के मामलों में बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय को जमानत मिल गई है। इससे पहले सरकारी अधिकारी की पिटाई के मामले में एक स्थानीय अदालत ने गुरुवार को विजयवर्गीय की जमानत याचिका खारिज कर दी थी और इसके बाद उन्हें 11 जुलाई तक के लिए न्यायिक हिरासत के तहत जिला जेल भेज दिया था। हालांकि भोपाल की एक स्पेशल कोर्ट ने अब उन्हें जमानत दे दी है। इन दोनों ही मामलों में आकाश को 50,000 और 20,000 रुपये के निजी मुचलके पर जमानत मिली है।

आकाश विजयवर्गीय भारतीय जनता पार्टी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे हैं और इंदौर तीन से पहली बार विधायक बने हैं। आकाश विजयवर्गीय ने बीते बुधवार को नगर निगम के अधिकारी को सरेआम दौड़ा कर क्रिकेट बैट से पीट दिया था। नगर निगम के कर्मचारी अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चला रहे थे। इसी दौरान विधायक आकाश वहां पहुंचे थे। बताया जाता है कि कर्मचारियों से विवाद के बीच उन्होंने आपा खो दिया और क्रिकेट बैट से अधिकारी को पीटना शुरू कर दिया। घटना का विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था।

इस घटना के बाद आकाश विजयवर्गीय के अलावा 10 अन्य लोगों के खिलाफ भी आईपीसी की धारा 353, 294, 323, 506, 147,148 के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी। इस मामले में वीडियो सार्वजनिक हो चुका था लेकिन कैलाश विजयवर्गीय और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कुछ भी बोलने से बचते रहे थे। इस पर उन्हें काफी आलोचनाओं का सामना भी करना पड़ा है।

इस मामले में आकाश विजयवर्गीय ने आरोप लगाया कि निगम के अधिकारी ने महिलाओं को घसीटकर घरों से बाहर निकाला था और ऐसी किसी कार्रवाई के दौरान उनके साथ महिला पुलिस को होना चाहिए था। उन्होंने यहां तक कह दिया था कि ‘यह तो शुरुआत है। हम भ्रष्टाचार और गुंडागर्दी को खत्म करके रहेंगे। हमारा लाइन ऑफ ऐक्शन है- आवेदन, निवेदन और फिर दनादन।’