‘अपने लड़के Vs बाहरी मोदी’ बीजेपी के लिये सपा-कांग्रेस का स्लोगन

80
SHARE
‘अपने लड़के Vs बाहरी मोदी’ प्रशांत किशोर के इस स्लोगन के साथ बीजेपी को घेरने की प्‍लानिंग कर रही सपा-कांग्रेस की जोड़ी| गठबंधन के बाद सपा-कांग्रेस दोनों पार्टियों ने मिलकर यूपी चुनाव के लिए नया स्‍लोगन तैयार किया है। यूपी में कैम्‍पेनिंग के दौरान दोनों पार्टियों की थीम होगी- ‘अपने लड़के Vs बाहरी मोदी’। पूरे चुनाव में इस स्लोगन और स्‍ट्रैटजी के साथ बीजेपी को घेरने की प्‍लानिंग है। बताया जा रहा है कि प्रशांत किशोर के इस स्लोगन और स्‍ट्रैटजी को अखिलेश, राहुल और प्रियंका की हरी झंडी मिल चुकी है|
पॉलिटिकल स्‍ट्रैटजिस्‍ट प्रशांत किशोर को अब गठबंधन के कैम्‍पेन की जिम्मेदारी सौंपी गई है।सूत्रों की मानें तो कैम्‍पेन में ये बात उठाई जाएगी कि अखिलेश और राहुल युवा चेहरे हैं और यूपी में इनकी जड़ें काफी मजबूत हैं।कहा जा रहा है कि सपा और कांग्रेस मोदी को केंद्र में रखकर यूपी में चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है|
कहा जा रहा है कि राहुल गांधी और अखिलेश यादव यूपी में साथ में करीब 14 रैलियों को एड्रेस करेंगे।राहुल की तरह प्रमोद तिवारी और राजबब्बर जैसे कांग्रेसी नेता भी सपा नेताओं के साथ गठबंधन के पक्ष में प्रचार करेंगे।दोनों पार्टियों के सियासी रणनीतिकारों से पीके की टीम चर्चा कर रैलियों की डेट और स्थान तय कर रही है|
माना जा रहा कि कांग्रेस-सपा ने ‘अपने लड़के Vs बाहरी मोदी’ की चुनावी थीम बिहार के पिछले चुनाव में महागठबंधन की सफलता के मद्देनजर तय की है।बता दें, नीतीश कुमार की अगुवाई में बिहार में जदयू-राजद-कांग्रेस-एनसीपी के महागठबंधन ने पीएम मोदी को रोकने के लिए ‘बिहारी’ बनाम ‘बाहरी’ का चुनावी नारा दिया था।बिहार चुनाव में बीजेपी ने सीएम पद का कैंडिडेट घोषित नहीं किया था और पीएम मोदी के चेहरे पर चुनाव लड़ा था।कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक, सपा-कांग्रेस के साथ आने से मुख्य मुकाबला बीजेपी और इस गठबंधन के बीच ही होगा। बीजेपी पीएम मोदी के चेहरे के साथ चुनावी मैदान में है, इसलिए यूपी का चुनाव भी बिहार से ज्‍यादा अलग नहीं है।यूपी में भी बीजेपी के पास सीएम चेहरा नहीं है, ऐसे में सपा-कांग्रेस के कैम्‍पेन की स्‍ट्रैटजी ये बताने की होगी कि अखिलेश और राहुल दोनों यूपी के अपने लड़के हैं, जो उनके बीच ही रहेंगे। जबकि मोदी तो बाहरी हैं|