साइकिल को लेकर इलेक्शन कमीशन ने अखिलेश और मुलायम खेमे से 9 जनवरी तक जवाब मांगा

32
SHARE
समाजवादी पार्टी के सिंंबल साइकिल पर दोनों गुट साइकिल सिम्बल पर दावा कर रहे हैं। समाजवादी पार्टी के सिंंबल साइकिल को लेकर इलेक्शन कमीशन ने अखिलेश और मुलायम खेमे से 9 जनवरी तक जवाब मांगा है|
पिछले दिनों मुलायम दिल्ली आए थे और यहां इलेक्शन कमीशन से मिले थे। वहीं, अखिलेश की तरह से रामगोपाल यादव ने ईसी के सामने अपना पक्ष रखा था और कहा था कि सीएम के साथ 90% विधायक हैं। इधर, इलेक्शन की स्ट्रैटजी को लेकर अखिलेश ने लखनऊ में विधायक दल की मीटिंग बुलाई है।
एएनआई न्यूज एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से खबर दी कि ईसी ने दोनों खेमों से सिंबल और पार्टी पर अपने दावे को लेकर 9 जनवरी तक जवाब मांगा है।दोनों गुटों से विधायकों की तादाद बताने को कहा गया है।
अखि‍लेश यादव ने गुरुवार को मुख्‍यमंत्री आवास पर सपा वि‍धायकों की मीटिंग बुलाई।
बुधवार को यूपी वि‍धानसभा चुनाव के शेड्यूल के एलान के बाद इस मीटिग को अहम माना जा रहा है। इसमें आगे की स्‍ट्रैटजी को लेकर बातचीत होगी। साथ चुनाव को लेकर जनता के बीच कैसे बेहतर संदेश दि‍या जाए इस बारे में विचार किया जा सकता है|
मुलायम जब 2 जनवरी को ईसी के दफ्तर पहुंचे तो उनके साथ शिवपाल यादव, अमर सिंह और जयाप्रदा भी थीं। मुलायम ने ईसी के सामने पुरानी पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष होने का दावा किया और साइकिल सिंबल पर हक जताया। मुलायम ने दिल्ली निकलने से पहले कहा- “मैं बीमार नहीं हूं। आप देखिए, मैं ठीक हूं। मीडिया ने हमेशा मेरा साथ दिया है। मैंने कोई गलत काम और करप्शन नहीं किया है। इल्जाम लगा भी तो सुप्रीम कोर्ट ने मुझे बरी कर दिया।” पार्टी सिंबल के विवाद पर कहा था कि साइकिल तो मेरी ही है|
रामगोपाल यादव ने 3 जनवरी को ईसी से मुलाकात की थी। इसमें कहा था कि सीएम के साथ 90% विधायक हैं। बता दें कि यूपी इलेक्शन में 403 विधायक हैं|
दरअसल, अखिलेश और मुलायम ने यूपी चुनाव के मद्देनजर विधानसभा कैंडिडेट्स की अलग-अलग लिस्‍ट जारी की है। अब पार्टी के इस झगड़े में दोनों ही खेमे पार्टी के सिंबल (साइकिल) से चुनाव लड़ना चाहते हैं। इसी को लेकर सोमवार को दिल्‍ली में आगे की रणनीति तय हो सकती है|