पैरा मिलिट्री फोर्स मांगने के बाद अब डीएम चंद्रकला का आया बड़ा आदेश

128
SHARE

जब से चुनाव आचार संहिता लागू हुई है, तब से मेरठ की डीएम बी चंद्रकला काफी सख्त हो गई है। जहां उन्होंने मेरठ में शांतिपूर्वक चुनाव संपन्न कराने के लिए 90 कंपनी पैरा मिलिट्री फोर्स मंगाने के आदेश दिए हैं। वहीं दूसरी ओर उन्होंने एक ऐसा आदेश जारी कर दिया है जिससे जिले कई हजार लोगों की सांसे रुक गई हैं। आइये आपको भी बताते हैं आखिर गुरुवार को डीएम चंद्रकला किस तरह का आदेश कर दिया है।

 दो दिनों में जमा हो सभी शस्त्र
जिला निर्वाचन अधिकारी/डीएम बी चन्द्रकला ने विधानसभा निर्वाचन 2017 को निष्पक्ष, शान्तिपूर्ण एवं कुशलतापूर्वक सम्पन्न कराने के लिए जिले के सभी शस्त्रधारकों के लिए दो दिनों के भीतर शस्त्र जमा कराने के आदेश दिए हैं। उन्होंने अधिकारियों को साफ कर दिया कि इस मामले में एक अभियान चलाया जाए। रिकॉर्ड के अनुसार सभी के शस्त्रों को अपने कब्जे में लिया जाए। डीएम चंद्रकला की ओर से सभी अधिकारियों और शस्त्र धारकों को दो दिनों का समय दिया है।
वरना लाइसेंस किया जाए निरस्त
पुलिस अधिकारियों की शस्त्र स्क्रीनिंग कमेटी बैठक की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए कि वह सुनिश्चित करें कि किसी भी दशा में कोई भी शस्त्र जमा होने से छूट न पाएं। तथा जमा कराने में आनाकानी करे उसको लिखित नोटिस दिया जाए। वह नोटिस के बाद भी शस्त्र जमा नहीं करता है तो धारा 188 के अन्तर्गत लाईसेंस निरस्तीकरण की कार्रवाई की जाए। उन्होंने पुलिस अधिकाारियों से कहा कि वह यह भी सुनिश्चित करें कोई भी संदिग्ध उनके क्षेत्र में न प्रवेश न कर सके। जिन लोगो को पूर्व के चुनावों में शान्ति भंग करने के उद्देश्य से दण्डित किया गया था, ऐसे लोग जो जमानत पर रिहा है उनकी सूची तैयार कर शस्त्र लाईसेंस जमा कराकर उन पर पैनी नजर रखें।
इनके खिलाफ भी हो कार्रवाई
जिलाधिकारी ने अधिकारियों को यह भी हिदायत दी की उनके क्षेत्रो में आदर्श आचार संहिता का किसी भी दशा में उल्लंघन न हो सके। जिन लोगों को जिला बदर किया गया है, वह किसी दशा में प्रवेश न करें तथा चेकिंग अभियान चलाएं और अवैध शराब की तस्करी न होने दें। वहीं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जे रविन्द्र गौड़ ने पुलिस अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह पिछले चुनावों में पंजीकृत अभियुक्तों के विरुद्ध 107-16 की कार्रवाई करें।