कोर्ट का सम्मान नहीं करना खतरनाक प्रवृति, भाजपा सरकार के मंत्रियों का अहंकार जनता को परेशान करने लगा है

100
SHARE

बुधवार को जारी एक बयान में बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने कहा कि कोर्ट का सम्मान नहीं करना खतरनाक प्रवृति है। केंद्र व प्रदेशों में सरकार बनने के बाद से भाजपा नेताओं द्वारा अदालतों व जजों का अपमान करने वाली भाषा बोलने का क्रम जारी है। इसके चलते न्यायालय ने कई बार फटकार भी लगाई परंतु सत्ताधारी नेताओं में अहंकारी मानसिकता कायम है। उन्होंने महाराष्ट्र का हवाला देते हुए आरोप लगाया कि कोर्ट की फटकार के बाद प्रदेश सरकार को हलफनामा देना पड़ा और बिना शर्त माफी भी मांगनी पड़ी।

मायावती ने कहा कि भाजपा सरकार के मंत्रियों व बड़े नेताओं का अहंकार जनता को परेशान करने लगा है। उन्होंने कहा कि न्यायालय का आदर सम्मान करना समाज और लोकतंत्र हित में जरूरी है। सत्ताधारी दलों को ऐसा व्यवहार शोभा नहीं देता है। बसपा प्रमुख ने आरोप लगाया कि भाजपा शासित राज्यों में विपक्षी दलों के नेताओं से अपमानजनक व्यवहार किया जा रहा है। गुजरात में पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल को सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर लगातार परेशान करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि सरकारों के अहंकार को जनता अधिक बर्दाश्त न करेगी।