पीएम मोदी की वजह से पूर्वांचल प्राथमिकता में आया-मनोज सिन्हा

50
SHARE

केंद्रीय संचार और रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा है कि वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के चुनाव जीतने के बाद पूर्वांचल प्राथमिकता में आया और यहां विकास के अनेक कार्य हो रहे हैं। लखनऊ में सीएमएस में आयोजित गाजीपुर समागम कार्यक्रम में मनोज सिन्हा ने कहा कि पिछले चार साल में गाजीपुर को पिछड़े जिलों की श्रेणी से बाहर निकाला गया।

गाजीपुर समागम कार्यक्रम में एक तरह से शक्ति प्रदर्शन करते हुए मनोज सिन्हा ने अपने संसदीय क्षेत्र में हो रहे तमाम विकास कार्यों को गिनाया। पिछले साढ़े चार साल में केन्द्र सरकार द्वारा किए गए कामों का उल्लेख करते हुए रेल राज्यमंत्री ने कहा कि पूर्वांचल में शिक्षा, चिकित्सा, परिवहन, सड़क, रेल और बुनियादी विकास की दृष्टि से अभूतपूर्व विकास हुआ। पूर्वांचल अब हवाई और जल परिवहन का केंद्र बन गया है।

गाजीपुर समागम कार्यक्रम के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री उपेन्द्र तिवारी, स्वाति सिंह, एमएलसी यशवंत सिंह समेत बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे।

मनोज सिन्हा ने कहा कि मानव और प्रृतिक संसाधनों की दृष्टि से संपन्न पूर्वांचल पर पिछड़पन का कलंक था जिसे दूर किया जा रहा है। आजादी के बाद से ही इस इलाके में ध्यान नहीं दिया गया था। कमलापति त्रिपाठी, कल्पनाथ राय और पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के प्रयासों से वाराणसी, मऊ और बलिया में विकास के कुछ कार्य हुए लेकिन समूचे पूर्वांचल का विकास नहीं हो पाया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में किसी सरकार ने पहली बार पूर्वांचल के समग्र विकास के लिए योजनाबद्ध तरीके से कार्य किया है।

मनोज सिन्हा ने बताया कि पीएम मोदी 29 दिसंबर को गाजीपुर आएंगे। इस दौरान वहीं एक मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास किया जाएगा। उन्होंने बताया कि पौहारी बाबा के आश्रम को आध्यात्मिक शिक्षा के लिए सेंटर फॉर एक्सीलेंस के रूप में विकसित किया जा सकता है। किसानों की समस्याओं के अध्ययन और समाधान के लिए स्वामी सहजानंद के नाम पर एक विश्वविद्यालय खोले जाने का सुझाव दिया। इसके अलावा रेल राज्यमंत्री ने कहा कि 2019 तक देश के सभी गांव में ब्रॉडबैंड सुविधा उपलब्ध हो जाएगी।