रिलायंस जियो नेटवर्क की क्षमता को बढ़ाने के लिए 30 हजार करोड़ रुपये का निवेश करेगा

26
SHARE

रिलायंस जियो अपने टेलिकॉम सेवा के नेटवर्क की क्षमता को बढ़ाने के लिए 30 हजार करोड़ रुपये का निवेश कर सकता है। खबरों की माने तो कंपनी इस रकम को जुटाने के लिए राइट्स ऑफर करेगी।

कंपनी का दावा है कि जियो के साथ एक दिन में छह लाख ग्राहक जुड़ रहे हैं और लॉन्च होने के चार महीने बाद उसके कुल ग्राहकों की संख्या लगभग सात करोड़ हो गई है। ऐसे में अपनी सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए कंपनी और अधिक निवेश करने जा रही है।

गौरतलब है कि रिलायंस जियो के हैप्पी न्यू ईयर ऑफर के तहत वॉइस कॉलिंग, डेटा और एसएमएस सर्विस 31 मार्च 2017 तक के लिए मुफ्त है। जियो का वेलकम ऑफर 31 दिसंबर 2016 को समाप्त हो चुका है। रिलायंस जियो ने अपने इन ऑफर्स की मदद से दूसरी टेलिकॉम कंपनियों को कड़ी टक्कर दी है।

भारती एयरटेल ने रिलायंस जियो के खिलाफ टेलीकॉम ट्रिब्यूनल में हलफनामा दायर कर दावा किया है कि ट्राई (भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण) ने नियमों का उल्लंघन कर जियो को लोक-लुभावने ऑफर्स देने की इजाजत दी है।

हलफनामे में एयरटेल का कहना है कि जियो के ये ऑफर्स बाजार में खुली प्रतियोगिता के सिद्धांतों के खिलाफ हैं। 10 जनवरी 2017 को एयरटेल ने टीडीसैट में यह याचिका दायर की है। कंपनी ने यह आरोप लगाया है कि ट्राई ने रिलायंस जियो को फ्री वॉयस और डेटा सेवाएं देने की इजाजत दी है, जो इंटरकनेक्ट नियमों के खिलाफ हैं और साथ ही यह कदम गैरकानूनी है|

रिलायंस जियो इंफोकॉम ने अपनी ब्रॉडबैंड सर्विस भी शुरू की है। जियो फाइबर सर्विस या कहें तो फाइबर टू द होम (एफटीटीएच) सर्विस को रिपोर्ट के मुताबिक मुंबई में शुरू कर दिया गया है। शुरुआत में जियो ने दावा किया था कि कंपनी एफटीटीएच सर्विस के जरिए एक जीबीपीएस तक की स्पीड मुहैया कराएगा। हालांकि यूजर्स के मुताबिक फिलहाल उन्हें 70 से 100 एमबीपीएस तक की स्पीड मिल रही है|