नीतीश सरकार के खिलाफ उपेंद्र कुशवाहा ने शुरू की शिक्षा सुधार यात्रा

35
SHARE

पूर्व केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा राज्य की नीतीश सरकार के खिलाफ लगातार मोर्चा खोले हुए हैं और उन्होंने अब बिहार में शिक्षा सुधार यात्रा शुरू की है। गुरुवार को जहानाबाद के कुर्था में सावित्री बाई फुले की जयंती के मौके पर उनकी तस्वीर और शहीद जगदेव बाबू की प्रतिमा पर माल्यार्पण के बाद उन्होंने यात्रा शुरू की।

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि जब तक शिक्षा में सुधार नहीं होगा, तब तक गरीबों की जिंदगी में खुशहाली नहीं आएगी। उपेंद्र कुशवाहा एनडीए में रहते हुए बिहार में शिक्षा में गिरावट को लेकर नीतीश सरकार को घेरने लगे थे। उन्होंने कई बार खुलेआम नाम लेकर नीतीश कुमार पर निशाना साधा था। महागठबंधन में शामिल होने के बाद उन्होंने अपनी लड़ाई और तेज कर दी।

बिहार में शिक्षा का मसला बहुत बड़ा है। राज्य के युवा अपनी मेधा और मेहनत से पढ़ाई के बूते पूरे देश में नौकरियां पाने में कामयाब रहे हैं, लेकिन सच्चाई यह भी है कि पिछले कई सालों से बिहार में शिक्षा की हालत बदतर होती जा रही है ऐसे में कुशवाहा को नीतीश सरकार के खिलाफ बड़ा हथियार मिल गया है।

रालोसपा की यह शिक्षा में सुधार यात्रा नौ दिनों तक चलेगी। इसके पूरा होने के बाद आंदोलन की अगली कड़ी में रालोसपा की ओर से दो फरवरी को आक्रोश मार्च निकाला जायेगा। उपेंद्र कुशवाहा ने एनडीए से अलग होने से कुछ पहले ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सामने बिहार में शिक्षा में सुधार को लेकर 25 सूत्री मांगें रखी थीं और कहा था कि नीतीश कुमार हमारी इन मांगों को पूरा कर देते हैं तो वो जो कहेंगे, वो मैं करूंगा।