पहले दिन ही लेट हो गई वंदे भारत एक्सप्रेस, डेढ़ घंटे देरी से पहुंची वाराणसी

44
SHARE

भारत की पहली हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस की सेवाएं रविवार को आम जनता के लिए शुरू हो गई। पूरी तरह से भारत में बनी इस बेहद शानदार ट्रेन से सफर करने को लेकर यात्रियों में भारी उत्सुकता दिखी। भारी-भरकम किराए के बावजूद दो हफ्ते के लिए इस ट्रेन के टिकट बुक हो गए हैं। इस ट्रेन से सफर करने का सबसे बड़ा आकर्षण है इसकी तेज रफ्तार जिससे इसे नई दिल्ली से वाराणसी का सफर सिर्फ 8 घंटे में कराना है लेकिन पहले ही दिन यह यात्रियों को समय पर नहीं पहुंचा सकी।

यह ट्रेन नई दिल्ली से रवाना तो वक्त पर हुई यानी सुबह 6 बजे लेकिन आगे यह समय की पाबंदी का पालन नहीं कर सकी। इसके वाराणसी पहुंचने का वक्त दोपहर 2 बजे का है लेकिन रेलवे के मुताबिक इसे वाराणसी पहुंचने में कम से कम 1 घंटे 21 मिनट की देरी तो हुई ही।

इतना ही नहीं इस ट्रेन को रविवार को ही दिल्ली के लिए दोपहर 3 बजे वापस लौटना था लेकिन जब यह 3 बजे तक पहुंची ही नहीं तो समय पर वापस कैसे लौटती। सरकार की नीयत साफ है और पहल अच्छी लेकिन जिन पर इस ट्रेन को समय पर चलाने की जिम्मेदारी है वह यात्रियों के लिए इस ट्रेन के खुलने के पहले दिन ही वक्त पर नहीं पहुंचा सके और ना ही ले जा सके।

वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन भारत की सबसे तेज ट्रेन है जिसे पूरी तरह से देश में ही विकसित किया गया है। इसका नई दिल्ली से वाराणसी तक का एसी चेयर कार का किराया 1850 रुपये और ट्रेन के एग्जिक्युटिव क्लास का किराया 3520 रुपये रखा गया है। सवाल यह है कि इतने किराए और उम्मीदों का भार ले कर चली यह ट्रेन भी रेलवे की बाकी लेट-लतीफ ट्रेनों की तरह ही बन कर रह जाएगी