कुशवाहा, राजभर की अगुवाई में पांच दलों का बना मोर्चा, 2022 में विकल्प देने का दावा

156
SHARE

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री ओम प्रकाश राजभर और बाबू सिंह कुशवाहा साथ आ गए हैं। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर और जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष बाबू सिंह कुशवाहा ने तीन अन्य पार्टियों के साथ मिल कर भागीदारी संकल्प मोर्चा बनाया है। इस मोर्चे का दावा है कि 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों में यह राज्य की जनता को नया विकल्प देगा।

इस मोर्चे में सुभासपा और जन अधिकार पार्टी के अलावा राष्ट्रीय उदय पार्टी, राष्ट्रीय उपेक्षित समाज पार्टी और जनता क्रांति पार्टी शामिल है। इन सभी दलों ने प्रमुखों ने मंगलवार को लखनऊ में साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस की। कहा गया कि इस मोर्चे का प्रमुख एजेंडा सभी जातियों को आबादी के हिसाब से आरक्षण, निजी क्षेत्र में आरक्षण लागू करना, एक समान शिक्षा व्यस्था लागू किया जाना, शराबबंदी करना होगा। साथ ही यह भी कहा गया कि यह मोर्चा चुनाव में किसी भी बड़े दल से समझौता नहीं करेगा।

इस दौरान सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि पिछड़ी व अन्य कम संख्या वाली जातियां नौकरियों में, सामाजिक-आर्थिक-राजनीतिक भागीदारी में लगातार पिछड़ती जा रही हैं। यह एकजुट हों तो अपना हक ले सकती हैं। उन्होंने भाजपा पर तमाम आरोप भी लगाए और कहा कि भाजपा के राज में चारो तरफ भ्रष्टाचार का बोलबाला है।

भागीदारी संकल्प मोर्चा की पहली बड़ी रैली 14 दिसंबर को बलिया में होगी। इसके बाद राज्य के अन्य जिलों में भी रैलियां की जाएंगी।