हार पर मुलायम ने नेताओं को फटकारा, पिता से सबक लेकर आगे बढ़ेंगे अखिलेश

23
SHARE

बीएसपी के साथ गठबंधन करने के बावजूद लोकसभा चुनाव में कामयाबी नहीं मिलने से समाजवादी पार्टी में मंथन का दौर जारी है। सोमवार को सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लखनऊ पार्टी मुख्यालय पर पार्टी नेताओं की बैठक ली। इसमें सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव भी मौजूद रहे और उन्होंने हार के लिए पार्टी के पदाधिकारियों को कड़ी फटकार लगाई। माना यह भी जा रहा है कि हार के बाद अब अखिलेश यादव पार्टी संगठन में बड़ा फेरबदल कर सकते हैं।

लोकसभा चुनावों से पहले जब सपा-बसपा गठबंधन बना था तो काफी बड़े दावे किए गए थे, लेकिन नतीजे आए तो सपा को सिर्फ 5 और बसपा को 10 सीटें मिलीं। इतना ही नहीं सपा के गढ़ कहे जाने वाले कन्नौज, बदायूं और फिरोजाबाद में भी मुलायम परिवार के सदस्य तक हार गए। सोमवार की बैठक में मुलायम सिंह यादव ने हार के लिए पार्टी पदाधिकारियों को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि पदाधिकारी लापरवाह रहे और जनता की नब्ज नहीं पकड़ सके।

मुलायम ने पदाधिकारियों से सीधा सवाल किया कि बताओ पार्टी कैसे हार गई, उन्होंने कहा कि तुम लोग तो घर की सीटें भी नहीं बचा पाए। बहरहाल लोकसभा चुनावों के बाद अब अखिलेश यादव के सामने 2022 के विधानसभा चुनावों और उससे पहले 11 सीटों पर होने वाले उपचुनावों की चुनौती है। अखिलेश इससे पहले संगठन को चुस्त-दुरुस्त करने में जुट गए हैं।

बताया जा रहा है कि अखिलेश पार्टी संगठन में जल्दी ही कई बड़े बदलाव करने वाले हैं। वह मुलायम सिंह यादव के वक्त की तरह से ही संगठन का ढांचा बना सकते हैं जिसमें गैर यादव पिछड़ी जातियों के नेताओं को तरजीह मिलेगी। कुर्मी, कुशवाहा, राजपूत, ब्राह्मण, मुस्लिम व अन्य अति पिछड़ी जातियों के नेताओं को आगे लाया जाएगा।

मौजूदा समय में पार्टी के पास फ्रंट पर इस तरह के ज्यादा नेता नहीं हैं और ना ही हाल के दिनों में उन्हें आगे बढ़ाया गया है, लेकिन अखिलेश अब इस गलती को ठीक करने की तैयारी में हैं। इसके साथ ही कई लोगों पर गाज भी गिर सकती है, इसकी शुरूआत टीवी चैनलों में पार्टी का पक्ष रखने वाले नेताओं को हटाने के साथ हो चुकी है। भितरघात करनेवालों की भी पहचान करके उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा।